Sun. Jun 20th, 2021

कोरोना महामारी की वजह से लोगों में बहुत डर और निराशा का माहौल है। शुरुआत से ही इस बीमारी को लेकर ऐसा माहौल बना कि लोग कोरोना पॉजिटिव होने की बात सुनकर ही सदमें में चले जाते हैं, कई मामलों में तो डर और घबराहट ही मरीज की मौत का कारण बन जाती है।

पिछले एक साल से भी अधिक समय से कोरोना का आतंक बना हुआ है और दूसरी लहर ने तो लोगों के मन में डर और बढ़ा दिया है। हर तरह नकारात्मक खबरें और अपनों से न मिल पाने की मजबूरी लोगों को मानसिक रूप से बीमार बना रही है। कोरोना की वजह से तनाव और डिप्रेशन के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। ऐसे में बहुत ज़रूरी है कि शारीरिक के साथ ही मानसिक स्वास्थ्य का भी ध्यान रखा जाए। हेल्थ एक्सपर्ट्स भी मानसिक स्वास्थ्य को लेकर चिंतिंत है और लोगों को बार-बार मानसिक फिटनेस का ध्यान रखने की सलाह दे रहे हैं।

कोरोना महामारी की वजह से लोगों में बहुत डर और निराशा का माहौल है। शुरुआत से ही इस बीमारी को लेकर ऐसा माहौल बना कि लोग कोरोना पॉजिटिव होने की बात सुनकर ही सदमें में चले जाते हैं, कई मामलों में तो डर और घबराहट ही मरीज की मौत का कारण बन जाती है। इस बीमारी को हराया जा सकता है, लेकिन इसके लिए सकारात्मक बने रहना बहुत ज़रूरी है। इसलिए हेल्थ एक्सपर्ट्स बार-बार लोगों से मानसिक फिटनेस और पॉजिटिव बने रहने की अपील कर रहे हैं। महामारी और लॉकडाउन के इस दौर में आप भी अपनी मानसिक फिटनेस का ध्यान रखें।

खबरों से थोड़ी दूरी है ज़रूरी- न्यूज़ चैनल हो या वेबसाइट हर जगह बस नकारात्मक खबरों की ही भरमार है। ऐसे में खुद को अपडेट करने के लिए आप थोड़ी देर न्यूज़ ज़रूर देखें, मगर घंटों टीवी या मोबाइल पर कोरोना से जुड़ी खबर न देखें, क्योंकि इससे तनाव बढ़ता है। बेहतर होगा कि कोई लाइट कॉमेडी या फनी चीज़ें देखें इससे कुछ देर के लिए आपका मन शांत रहेगा।

खुद को इमोशनली मजबूत बनाएं- वर्तमान हालात वाकई बहुत बुरे हैं, लेकिन यह सिर्फ आपके लिए नहीं है, बल्कि पूरी दुनिया पर कोरोना नामक आफत आई है, लेकिन याद रखिए कि आपको खुद को और अपने परिवार को इससे बचाने के लिए सतर्क रहने के साथ ही भावनात्मक रूप से मजबूत भी रहना होगा, तभी तो आप अपने परिवार का हौसला बढ़ा पाएंगे। इमोशनली मजबूत होने के लिए खुद से पॉजिटिव बातें करें और सोचें जैसे- सब ठीक हो जाएगा।

मनपसंद काम करें- जब बहुत तनावग्रस्त या परेशान हों तो अपना कोई पसंदीदा काम करें। जैसे म्यूज़िक सुनें, डांस करें, पेंटिंग, कुकिंग, गार्डनिंग करें। कोई भी ऐसा काम जिसे करने से आपको खुशी मिलती हो। इससे तनाव कम होता है। हर दिन कुछ देर के लिए अपना पसंदीदा काम करने से मन शांत रहेगा और बेहतर होगा कि घर के बाकी सदस्यों और बच्चों को भी इसके लिए प्रेरित किया जाए।

अपनों से जुड़े रहें- मानसिक रूप से परेशान होने पर सबसे बात करना न छोड़ें, बल्कि फोन के जरिए परिवार और दोस्तों से जुड़े रहिए। उनसे हालचाल पूछते रहिए, हां, कोरोना पर बात कम से कम करें और दूसरे मुद्दों पर बात करके मन बहलाने की कोशिश करें।

डायट का रखें खास ख्याल- संतुलित आहार न सिर्फ इम्यूनिटी बूस्ट करती है, बल्कि मानसिक सेहत का ख्याल रखने के लिए भी यह ज़रूरी है। इसलिए तला, मसालेदार खाने की बजाय सादा और प्रोटीन युक्त भोजन करें। जिसमें दूध, दही, ताजे फल-सब्ज़ियां, ड्राई फ्रूट्स आदि शामिल हो।

नींद पूरी करें- स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार, मेंटली फिट रहने के लिए 7-8 घंटे की नींद भी जरूरी है। तो रात को आराम से सोएं और चैन की नींद के लिए ज़रूरी है कि रात में सोने से 2-3 घंटे पहले ही टीवी बंद कर दें और कोरोना से जुड़ी किसी भी बात पर चर्चा न करें।

मेडिटेशन करें- मन को शांत रखने के लिए रोजाना मेडिटेशन और ब्रिदिंग एक्सरसाइज करें। यदि रात को नींद आने में दिक्कत होती है तो सोने से पहले भी मेडिटेशन कर सकते हैं। इसके अलावा हेल्थ एक्सपर्ट्स के मुताबिक, सुबह के समय आधे घंटे योग व कसरत करना भी मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *