Sun. Jun 20th, 2021

कोरोना के 80 प्रतिशत लोग जंग जीत रहे हैं क्योंकि उनका शरीर मजबूत है उनकी इम्युनिटी पावर स्ट्रोंग है। कोविड संक्रमण के बाद शरीर काफी कमजोर हो जाता है ऐसे में कोविड -19 से उबरने वाले लोगों को मांसपेशियों, प्रतिरक्षा और ऊर्जा के स्तर के पुनर्निर्माण पर अधिक ध्यान केंद्रित करना चाहिए।

कोरोना वायरस महामारी की दूसरी लहर ने लोगों को काफी ज्यादा मुश्किल में  डाल दिया है। स्थिति काफी भयानक है। कोरोना वायरस का संक्रमण अगर हो रहा है तो कईब हार हालत बहुत ज्यादा बिगड़ जाती है। कुछ मरीजों को बचा लिया जाता है लेकिन कुछ की मौत हो जाती है। कोरोना अपने आप में एक बेहद ही खतरनाक संक्रमण है। जो जानलेवा है। ऐसे में अगर आपको कोरोना को मात देनी है तो अपने शरीर को कोरोना  से लड़ने के लिए तैयार रखना होगा। कोरोना के 80 प्रतिशत लोग जंग जीत रहे हैं क्योंकि उनका शरीर मजबूत है उनकी इम्युनिटी पावर स्ट्रोंग है। कोविड संक्रमण के बाद शरीर काफी कमजोर हो जाता है ऐसे में कोविड -19 से उबरने वाले लोगों को मांसपेशियों, प्रतिरक्षा और ऊर्जा के स्तर के पुनर्निर्माण पर अधिक ध्यान केंद्रित करना चाहिए।  केंद्र सरकार ने अपने mygovindia ट्विटर हैंडल के माध्यम से कोविड से लड़ने के लिए रोग प्रतिरोधक बढ़ाने के लिए खाद्य पदार्थों की एक सूची की सिफारिश की है।

स्वाद और गंध का नुकसान कोविड संक्रमण के सामान्य लक्षणों में से एक है, जो महामारी के दोनों चरणों में पाया गया है। चूंकि इससे भूख में कमी होती है और मरीजों को इसे निगलने में मुश्किल होती है, मांसपेशियों की हानि हो सकती है। दिशानिर्देश में कहा गया है, “छोटे अंतराल पर नरम भोजन करना और भोजन में अमचूर को शामिल करना महत्वपूर्ण है।”

 

कोविड रोगी को आहार में क्या शामिल करना चाहिए:

> पर्याप्त विटामिन और खनिज प्राप्त करने के लिए रंगीन फलों और सब्जियों की 5 सर्विंग।

> चिंता से छुटकारा पाने के लिए कम से कम 70 फीसदी कोको के साथ डार्क चॉकलेट की थोड़ी मात्रा।

> प्रतिरक्षा बढ़ाने के लिए दिन में एक बार हल्दी वाला दूध। 

> छोटे-छोटे अंतराल पर नरम खाद्य पदार्थ खाना और खाने में अमचूर को शामिल करने से।

> साबुत अनाज जैसे रागी, जई और अमरबेल की सलाह दी जाती है।

> प्रोटीन के अच्छे स्रोत जैसे चिकन, मछली, अंडे, पनीर, सोया, नट और बीज।

> अखरोट, बादाम, जैतून का तेल और सरसों के तेल जैसे स्वस्थ वसा। 

 महामारी की दूसरी लहर के बढ़ने के साथ, जैसा कि देश में सबसे अधिक दैनिक मामले और एक दिन में रिकॉर्ड मौतें देखी जा रही हैं, बुखार, शरीर में दर्द की शुरुआत से लोगों में दहशत फैल रही है। कोविड -19 से लड़ने के कई अवैज्ञानिक घरेलू उपाय भी सोशल मीडिया पर चल रहे हैं। केंद्र ने दोहराया है कि कोविड के 80 से 85 प्रतिशत संक्रमण को घर पर ही, बिना किसी गंभीर चिकित्सकीय हस्तक्षेप के, उचित पोषण के साथ ठीक किया जाएगा। केंद्र ने सहिष्णुता के अनुसार नियमित शारीरिक गतिविधि और साँस लेने के व्यायाम की भी सलाह दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *