Sun. Jun 20th, 2021

कुछ दिन पहले सांसद रूडी के एमपी लैड फंड से खरीदीं 2 दर्जन एंबुलेंस के खड़े होने का किया था खुलासा

बिहार में कोरोना के कहर के बीच राजनीतिक घमासान चरम पर है। मंगलवार को जन अधिकार पार्टी के प्रमुख और पूर्व सांसद पप्पू यादव को पुलिस ने कोविड नियमों के उल्लंघन के आरोप में गिरफ्तार कर लिया है। उल्लेखनीय है कि कुछ दिन पहले पप्पू यादव ने एक स्थान पर छापा मारकर करीब 2 दर्जन से ज्यादा एंबुलेंस बिना इस्तेमाल के रखे होने के मामले का खुलासा किया था। सभी एंबुलेंस लोकसभा सांसद राजीव प्रताप रूडी के एमपी लैड फंड से खरीदी गयीं थीं। भाजपा सांसद राजीव प्रताप रूडी ने पप्पू यादव को ड्राइवर लाकर सभी एंबुलेंस चलवाने की चुनौती दी थी। जिसके जवाब में पप्पू यादव अपनी पूरी टीम के साथ पहुंचे और दावा किया वह 40 ड्राइवरों से एंबुलेंस चलवाने के लिए तैयार हैं।

सिर्फ विरोधी ही नहीं, बल्कि बिहार की एनडीए सरकार में साझेदार भी इस गिरफ्तारी पर सवाल खड़े कर रहे हैं। हिन्दुस्तान आवाम मोर्चा के जीतन राम मांझी ने भी ट्वीट करके गिरफ्तारी का विरोध किया। जीतन राम मांझी ने लिखा है कि अगर कोई जनप्रतिनिधि दिन रात लोगों की सेवा करे, फिर भी उसे गिरफ्तार किया जाए तो मानवता के विरोध में उठाया गया कदम है।

गिरफ्तारी के बाद पप्पू यादव ने भी ट्वीट करके राज्य सरकार पर आरोप लगाया। उन्होंने लिखा-नीतीश जी, प्रणाम, धैर्य की परीक्षा न लें, अन्यथा जनता अपने हाथों में व्यवस्था लेगी,तो आपका प्रशासन सारा लॉकडाउन प्रोटोकॉल भूल जाएगा। मेरा एक माह पहले ऑपेरशन हुआ है, तब भी अपना जीवन दांव पर लगा जिंदगियां बचा रहे हैं। अभी मेरा टेस्ट हुआ,कोरोना निगेटिव आया, आप पॉजिटिव कर मारना चाहते हैं।

इस ट्वीट के बाद पप्पू यादव ने एक और ट्वीट किया-इस बार उन्होंने लिखा, सरकारों को कोरोना की तीसरी लहर से लड़ने की तैयारी करनी चाहिए तो पप्पू यादव से लड़ रहे हैं… पूरे बिहार में मामला खोज रहे हैं, कैसे फंसाकर अपनी नाकामी छुपाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *