5 अप्रैल को दीया-मोमबती जलाते समय बरतें सावधानी, हाथ धोने के लिए सैनिटाइजर नहीं साबुन का प्रयोग करें

5 अप्रैल को दीया-मोमबती जलाते समय बरतें सावधानी, हाथ धोने के लिए सैनिटाइजर नहीं साबुन का प्रयोग करें

- in विविध
214
0

भारतीय सेना सलाह दी है कि 5 अप्रैल को दीया या मोमबत्ती जलाने के बाद अपने हाथ जरूर धोएं। हालांकि, इस साबुन का ही इस्तेमाल करें, एल्कोहल वाले सेनेटाइजर का इस्तेमाल बिल्कुल नहीं करें। ऐसा इसलिए क्योंकि एल्कोहल में आग जल्दी पकड़ती है।देश में कोरोना वायरस के खिलाफ जारी जंग में सामूहिक शक्ति का प्रदर्शन के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 5 अप्रैल को रात 9 बजे 9 मिनट के लिए लोगों से अपने घरों की बत्ती बुझाकर दीया, मोमबत्ती, टॉर्च या मोबाइल की फ्लैशलाइट जलाने का आग्रह किया है। पीएम मोदी की इस अपील के बाद अब भारतीय सेना ने एक एडवाइजरी जारी की है। भारतीय सेना ने सलाह दी है कि 5 अप्रैल को दीया या मोमबत्ती जलाने के बाद अपने हाथ जरूर धोएं। हालांकि, इस साबुन का ही इस्तेमाल करें, एल्कोहल वाले सेनेटाइजर का इस्तेमाल बिल्कुल नहीं करें। ऐसा इसलिए क्योंकि एल्कोहल में आग जल्दी पकड़ती है।दुनियाभर में कोरोना वायरस का कहर लगातार जारी है। भारत में भी इस खतरनाक वायरस का संक्रमण थमता नहीं दिख रहा है। इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को देशवासियों से अपील करते हुए कहा कि कोरोना वायरस के खिलाफ जारी जंग में सामूहिक शक्ति को प्रदर्शित करने के लिए रविवार पांच अप्रैल को रात नौ बजे अपने घरों की बालकनी में खड़े रहकर मोमबत्ती, दीये, टॉर्च या मोबाइल की फ्लैशलाइट जलाएं।प्रधानमंत्री ने देशवासियों के लिए अपने वीडियो संदेश में इस दौरान लोगों से सोशल डिस्टेंसिंग यानी सामाजिक दूरी का ध्यान रखने और एक दूसरे से दूरी बनाए रखने की अपील भी की। पीएम मोदी की ओर दीया-मोमबत्ती जलाने की अपील के बाद शनिवार को भारतीय सेना की ओर एडवाइजरी जारी की गई है।

You may also like

चीन को मोदी की दो टूक- बाहरी दबाव में नहीं झुकेगा भारत, देश के लिए जो जरूरी, वो करेंगे

लद्दाख में चीनी सैनिकों के साथ झड़प के