कानूनी मुसीबत हो या फिर विपक्ष के वार, पीएम नरेंद्र मोदी के लिए हर मौके पर अरुण जेटली ने संभाली थी जिम्मेदारी

कानूनी मुसीबत हो या फिर विपक्ष के वार, पीएम नरेंद्र मोदी के लिए हर मौके पर अरुण जेटली ने संभाली थी जिम्मेदारी

- in राष्ट्रीय
237
0

राजनीति के दिग्गजों के बीच अरुण जेटली हमेशा ‘स्कॉलर मिनिस्टर’ के तौर पर जाने जाते थे। हर किसी के लिए वह समस्याओं का हल थे और उनका यह रवैया दलीय सीमा से परे था। स्वभाव से विनम्र, बुद्धि से तीक्ष्ण अरुण जेटली रणनीति के माहिर थे और उनकी तर्क और विश्लेषण क्षमता ऐसी थी कि हर मुश्किल का वे जवाब थे और उनका हर जवाब समस्याओं का हल था। खासतौर पर पीएम नरेंद्र मोदी के लिए वे बेहद अहम मौकों पर संकटमोचक बनकर उभरे। शायद यही वजह थी कि एक बार उन्होंने अरुण जेटली को ‘अनमोल हीरा’ करार दिया था। हालांकि 4 दशक के उनके सुनहरे राजनीतिक करियर पर खराब सेहत के चलते विराम लग गया। 66 वर्षीय अरुण जेटली ने खुद ही पीएम नरेंद्र मोदी से दूसरे कार्यकाल में सरकार से दूर रखने की अपील की थी। लेकिन, पहले कार्यकाल और उससे पहले वह उनके लिए हमेशा संकटमोचक रहे। जीएसटी पर उन्होंने जिस तरह से तमाम राज्यों के वित्त मंत्रियों को राजी किया, वह आसान नहीं था। पीएम नरेंद्र मोदी के ‘चाणक्य’ कहे जाने वाले अरुण जेटली 2002 से ही उनके संकटमोचक की भूमिका में रहे। यह वह दौर था, जब गुजरात के दंगे सीएम के तौर पर पीएम नरेंद्र मोदी के लिए परेशानी का सबब बन चुके थे।तब जेटली के ऑफिस में अकसर मिलते थे अमित शाह
नरेंद्र मोदी ही नहीं बल्कि आज के गृह मंत्री अमित शाह के लिए भी जेटली एक दौर में संकटमोचक साबित हुए। तत्कालीन यूपीए सरकार के दौर में अमित शाह को गुजरात से बाहर कर दिया गया था, कानूनी पेचीदगियों में उलझे शाह की तब जेटली ने ही मदद की थी। उस दौर में अकसर अमित शाह जेटली के कैलाश कॉलोनी स्थित ऑफिस में ही दिखते थे और हफ्ते में कई दिन साथ में ही भोजन करते थे।

जब पीएम मोदी ने की ‘दामाद’ जेटली की तारीफ

पीएम पद के लिए मोदी के नाम पर जेटली ने की लामबंदी
यही नहीं, नरेंद्र मोदी को 2014 लोकसभा चुनाव के लिए जब पीएम कैंडिडेट घोषित किया गया था तो पार्टी के भीतर असहमतियों को थामने के लिए जेटली कई महीने तक पर्दे के पीछे ऐक्टिव रहे। कहा जाता है कि राजनाथ सिंह, शिवराज सिंह चौहान और नितिन गडकरी जैसे बड़े नेताओं को उन्होंने ही मोदी के नाम पर राजी करने का काम किया। पेशे से वकील अरुण जेटली अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में भी मंत्री रहे थे, लेकिन मोदी सरकार में उन्हें वित्त और रक्षा मंत्रालय कई महीनों तक एक साथ संभालने पड़े। शायद इसकी वजह पीएम मोदी का उन पर अटूट भरोसा था।
बिरोधी को चुभ जाते थे ‘शायर’ जेटली के तंज
1990 के दशक से ही मोदी के करीब थे अरुण जेटली मनोहर पर्रिकर की सेहत बिगड़ी तो अरुण जेटली को रक्षा मंत्रालय भी दिया गया। दिल्ली की सत्ता के गलियारे में लंबे समय से पैठ रखने वाले अरुण जेटली 1990 के दशक से ही पीएम नरेंद्र मोदी के करीब थे। दिल्ली में पीएम मोदी के करीबी लोगों में से जेटली ही थे। फिर यह साथ ऐसा बढ़ा कि 2002 के दंगों के बाद कानूनी मदद हो या फिर संसद में विपक्षी सवाल का जवाब जेटली हमेशा मोदी और सरकार के लिए कवच की तरह जमे रहे

You may also like

चीन को मोदी की दो टूक- बाहरी दबाव में नहीं झुकेगा भारत, देश के लिए जो जरूरी, वो करेंगे

लद्दाख में चीनी सैनिकों के साथ झड़प के